Monday, February 26, 2024

अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस

29 अप्रैल को विश्व में अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस मनाया जाता है इस दिवस को यूनेस्को की सहयोगी अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच संस्था द्वारा 29 अप्रैल को मनाने के लिए घोषित किया गया था अगर हम इस दिवस के इतिहास की बात करें तो इसकी शुरुआत 1982 से की गई थी साथ ही इस दिवस का उद्देश्य लोगों के बीच में नृत्य की महत्व को बताना है साथ ही विश्व स्तर पर लोगों का ध्यान इसके ऊपर आकर्षित करना भी है और लोगों को नृत्य के प्रति जागरूक करना है साथ ही सरकार द्वारा पूरे विश्व में नृत्य को सिखाने के लिए शिक्षा की सभी प्रणालियों के लिए उचित जगह भी उपलब्ध कराना है निर्णय हमेशा से ही लोगों के बीच में काफी प्रसिद्ध रहा है और इसके महत्व को भी हर किसी को जाना काफी आवश्यक है कहा जाता है कि 2000 वर्षों पहले  त्रेता युग में देवताओं की विनती पर ब्रह्माजी ने नृत्य वेद की तैयारी की थी और जब नृत्य वेद पूरा हो गया था तो उसके बाद नृत्य करने का अभ्यास भरतमुनि के सौ पुत्रों ने किया था इसके के जरिए हम अपनी खुशी सब को प्रदर्शित कर सकते हैं साथ ही इसको जीवन का उत्सव भी कहा जाता है ऐसे में प्रत्येक वर्ष आज के दिन को इस नृत्य के महत्व को दुनिया भर में पहुंचाने के लिए मनाया जाता है अगर हमें भारत में नृत्य की बात करें तो हमारे देश में नृत्य काफी पुराने समय से हैं हमारे देश में काफी प्रकार के नृत्य होते हैं जो कि काफी प्राचीन समय से प्रसिद्ध है जैसे कि भरतनाट्यम कथकली कुचिपुड़ी ऐसे कहीं सारे नृत्य भारतीय सभ्यता में देखे गई है तो भारतीय सभ्यता में नृत्य हमेशा से ही एक महत्वपूर्ण भूमिका में रहा है

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles