Monday, February 26, 2024

24 नवंबर  लाचित  दिवस

हर साल 24 नवंबर को भारतीय राज्य, असम में लाचित दिवस मनाया जाता है, इस दिवस को सेना के जनरल   बोडफुकन, की जयंती के रूप में मनाया जाता है उनका जन्म 24 नवंबर 1622 में हुआ था और वह   सराय घाट की लड़ाई में अपनी सेना खुफिया जानकारी के लिए जाने जाते थे और साल 1999 से हर साल राष्ट्रीय रक्षा अकादमी से सर्वश्रेष्ठ  केडेट पासिंग आउट को लचित बोरफुकान गोल्ड मेडल से सम्मानित किया जाता है इस दिवस के इतिहास के बारे में बात करें तो सराय घाट की लड़ाई वर्ष 1671 में ब्रह्मपुत्र नदी के घाट पर राम सिंह के नेतृत्व वाली मुगल सेना और लक्षित भोपाल के नेतृत्व वाली अहोम सेना के बीच लड़ी गई थी मुगल सेना और हम सेना से बड़ी और शक्तिशाली थी लेकिन लक्षित ने इलाके नेतृत्व कौशल और गोरिल्ला युद्ध के अपने शक्तिशाली प्रयोग के साथ सराया घाट को वर्तमान में गुवाहाटी में मुगल आक्रमण से बचाया था लचित और उनकी सेना द्वारा पर  होने के बाद मुगल सेना असम से गुवाहाटी के लिए आगे बढ़ी मुगल सेना राम सिंह प्रथम के अधीन थे मुगल सेना जब  शिविर में पहुंची और युद्ध के अंतिम चरण के दौरान सराय घाट में नदी पर हमला किया और उसके बाद लाचित विजई रहे और उन्होंने मुगलों को गुवाहाटी से पीछे हटने के लिए मजबूर कर दिया था और फिर अप्रैल में जोरहाट में उनकी प्रकृतिक मृत्यु हो गई और उनके अवशेष जोरहाट के पास लाचित मैदान में मौजूद है साथ ही महा वीर लचित पुरस्कार आसाम में ताई एवं युवा परिषद द्वारा उल्लेखनीय व्यक्तियों को भी दिया जाता है इस पुरस्कार के तहत ₹50000 का नगद पुरस्कार और तलवार प्रदान की जाती है लाचितबोडफुकन की जयंती के उपलक्ष में इसीलिए प्रतिवर्ष 24 नवंबर को यह दिवस मनाया जाता है वह एक अद्भुत नेता और रणनीति का से उन्होंने असम की अनूठी संस्कृति के संरक्षण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Articles